Constitution Day 2021: 72 साल पहले इसी दिन संविधान को मिला था अपना अस्तित्व : Hindustan Reads

Constitution Day 2021: 72 साल पहले इसी दिन संविधान को मिला था अपना अस्तित्व

कश्मीर से कन्याकुमारी तक फैला यह देश, सैंकड़ों लोगों, उनकी भाषाओं और उनसे जुड़ी विविधताओं का संगम है. ऐसे में संविधान वह कड़ी है, जो इस देश के हर नागरिक को एक साथ पिरोए रखती है. 26 नवंबर, 1949 का ही वो दिन था, जिस दिन भारत के संविधान को विधिवत रूप से अपनाया गया था. आज देश अपना 72वां Constitution Day मना रहा है. इस मौके पर प्रधानमंत्री ने भी ट्वीट कर इस दिन का महत्व को बताते हुए देशवासियों को बधाई दी.

क्यों है Constitution Day बेहद खास? 

भारत के संविधान के निर्माण में Dr. Bhimrao Ambedkar की सबसे बड़ी भूमिका थी. जब देश में अंग्रेज़ों का शासन अपने अंतिम पड़ाव पर पहुंचा, तब देश को उन कानूनों की ज़रूरत महसूस होने लगी, जिससे देशवासियों के बीच एकता और समानता बनी रहे. देश को एकजुट और बिना भेदभाव के रखने के लिए सभी के बीच इस कानूनी किताब की मांग उठने लगी. 

संविधान को अस्तित्व में लाने के लिए पहले संविधान सभा का बनना ज़रूरी था. इसके लिए एक सभा का गठन हुआ, जिसकी पहली बैठक साल 1946 के 9 दिसंबर को संसद भवन में हुई थी. वहीं, 29 अगस्त, 1947 को इस सभा ने एक बड़ा फैसला लेते हुए Dr. Bhimrao Ambedkar के नेतृत्व वाली ड्राफ्टिंग समिति का गठन किया. इस संविधान को तैयार करने में कुल 2 साल 11 महीने और 18 दिनों का वक्त लगा था. बहरहाल 26 नवंबर, 1949 को इस संविधान को अपनाया गया और 26 जनवरी, 1950 को इसे लागू कर दिया गया. यही वजह है, कि इस दिन को Constitution Day के रूप में मनाया जाता है.

कब से मनाया जाता है Constitution Day?

साल 2015 में संविधान के निर्माता कहलाने वाले Dr. Bhimrao Ambedkar की 125वीं जयंती वर्ष के मौके पर, 26 नवंबर को सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय ने Constitution Day के रूप में मनाने के केंद्र सरकार के निर्णय को मंजूरी दी थी.

प्रधानमंत्री होंगे कई कार्यक्रमों में शामिल

भारत के 72वें Constitution Day के मौके पर, देश के प्रधानमंत्री Narendra Modi ने भी देशवासियों को बधाई दी. साथ ही, उन्होंने इस Dr. Bhimrao Ambedkar द्वारा, विधानसभा में दिए गए भाषण का एक अंश भी अपने ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट किया. उन्होंने लिखा, “कोई भी संविधान, चाहे कितना ही सुंदर और सुदृढ़ क्यों न बनाया गया हो, यदि उसे चलाने वाले देश के सच्चे सेवक न हो, तो इसका कोई मोल नहीं.”

Constitution Day के मौके पर आज प्रधानमंत्री Narendra Modi,  राष्ट्रपति Ramnath Kovind की उपस्थिति में सुबह 11 बजे से संसद भवन में एक सभा को संबोधित कर रहे हैं. वहीं शाम 5.30 बजे वह विज्ञान भवन में आयोजित कार्यक्रम का हिस्सा बनेंगे.

आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि भारत विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र है और इसका संविधान विश्व के किसी भी गणतांत्रिक देश का सबसे लंबा लिखित संविधान है.

यह भी पढ़ें: PMGKY Scheme News: Narendra Modi का ऐलान, 2022 तक मिलेगा मुफ्त राशन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *