Covid-19 Vaccination: ICMR का ड्रोन आधारित वैक्सीन डिलीवरी मॉडल हुआ लॉन्च, अब ड्रोन पहुंचाएगा आप तक वैक्सीन

केंद्र सरकार ने सोमवार को इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च  का वैक्सीन डिलीवरी मॉडल-ड्रोन रिस्पांस एंड आउटरीच इन नॉर्थ ईस्ट (आई-ड्रोन) लॉन्च किया. सरकार ने कहा कि, “यह पहली बार होगा कि, दक्षिण एशिया में ‘मेक इन इंडिया’ ड्रोन का इस्तेमाल किया जाएगा. इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च  द्वारा लॉन्च किए गए इस ड्रोन की मदद से, 12-15 मिनट में 15 किलोमीटर की हवाई दूरी पर Covid-19 Vaccination की सुविधा दी जा सकती है. ड्रोन ने बिष्णुपुर जिला अस्पताल से मणिपुर में लोकतक झील, करंग द्वीप तक की दूरी तय की. इन जगहों के बीच सड़क मार्ग से दूरी 26 किलोमीटर है. 

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री, मनसुख मंडाविया ने इस पहल की शुरुआत करते हुए कहा कि, “यह तकनीक, स्वास्थ्य देखभाल संबंधी डिलीवरी, विशेष रूप से कठिन क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवा मुहैया कराने में गेम चेंजर साबित हो सकती है. ऐसी ड्रोन तकनीकों को राष्ट्रीय कार्यक्रमों में शामिल करने से Covid -19 Vaccination और चिकित्सा आपूर्ति को जल्द से जल्द पहुंचाने में मदद मिलेगी.

उन्होंने आगे कहा कि, वर्तमान में, ड्रोन-आधारित डिलीवरी परियोजना को मणिपुर, नागालैंड में शुरू कर दिया गया है. केंद्र शासित प्रदेश अंडमान और निकोबार द्वीप में भी, इसे काम करने की मंजूरी दे दी गई है. भारत में भिन्न भौगोलिक विविधताएं मौजूद हैं. हम महत्वपूर्ण जीवन रक्षक दवाएं पहुंचाने, खून के सैंपल इकट्ठे करने में ड्रोन का उपयोग कर सकते हैं.”  

राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में प्रभावी और सुरक्षित वैक्सीन प्रशासन के बावजूद, भारत के कठिन और दूर दराज के इलाकों में Covid-19 Vaccination की सुविधा पहुंचाना अभी भी काफी चुनौतीपूर्ण काम है. आई-ड्रोन को दूरदराज के इलाकों और दुर्गम इलाकों में मानव रहित हवाई वाहनों/ड्रोन को तैनात करके इन चुनौतियों से पार पाने के लिए डिजाइन किया गया है. 

यह भी पढ़ें: Covid-19 In India: संक्रमण की रफ्तार घटी, 9% से कम हुए मामले ⁩

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *