Covaxin News: 2 से 18 वर्ष के बच्चों के टीके को DCGI ने दी मंज़ूरी

लंबे इंतज़ार के बाद अब देश में बच्चों को भी कोरोना का टीका लगाया जाएगा. ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) ने भारत बायोटेक की Covaxin को 2 से 18 वर्ष के बच्चों पर आपातकालीन इस्तेमाल की मंज़ूरी दे दी है. डीसीजीआई के मुताबिक़, 2 से 18 वर्ष के बच्चों को Covaxin के टीके की दो डोज़ लगाई जाएंगी. भारत बायोटेक द्वारा निर्मित, Covaxin भारत में बच्चों के लिए मंज़ूरी पाने वाला पहला टीका है. 

परीक्षण में 78 प्रतिशत असरदार है Covaxin

टीका निर्माता कंपनी, भारत बायोटेक ने सितंबर में बच्चों पर परीक्षण पूरे किए थे. टीके के क्लिक्निकल परीक्षण में लगभग, 78 प्रतिशत बच्चों पर टीके ने अपना असर दिखाया है. परीक्षण से जुड़ा सारा डाटा, भारत बायोटेक ने डीसीजीआई के पास जमा करवा दिया था. मगर डीसीजीआई ने कंपनी से अतिरिक्त डाटा की मांग की थी, जो शनिवार को कंपनी द्वारा जमा कराया गया था. वहीं सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी (एसईसी) ने इसको लेकर, कल 12 अक्टूबर को बैठक का आयोजन कर, Covaxin के आपातकालीन इस्तेमाल की मंज़ूरी दी है. 

वयस्कों की तरह लगेगी टीके की दो डोज़

डीसीजीआई के मुताबिक़, 2 से 18 साल के बच्चों को Covaxin के दो डोज़ लगाए जाएंगे. हालांकि, इसकी सम्पूर्ण जानकारी अभी तक नहीं दी गई है. साथ ही, इसके लिए दिशा निर्देश भी जारी होने बाकी हैं. 

वहीं देश में वयस्कों को तीन प्रकार के टीके लगाए जा रहे हैं, जिनमें Covaxin, Covishield और Sputnik V शामिल है. Covishield बनाने वाला, सीरम इंस्टीट्यूट भी बच्चों के लिए टीके बनाने की तैयारी कर रहा है. दूसरी ओर, ज़ायडस कैडिला के Ziocov-D टीके को मंज़ूरी मिलने का इंतज़ार है, यह टीका बच्चों के साथ-साथ वयस्कों को भी लगाया जाएगा.

बच्चों का टीकाकरण कितना ज़रूरी?

दरअसल, कई वैज्ञानिकों और डॉक्टरों ने बच्चों पर कोरोना की तीसरी का लहर का घातक खतरा बताया है. वहीं कई देशों में छोटे बच्चों के लिए स्कूल खुल चुके हैं और भारत में अब इसकी तैयारी की जा रही है. स्कूल खोले जाने पर बच्चों में संक्रमण का खतरा भी अधिक बढ़ेगा, ऐसे में समय रहते बच्चों का टीकाकरण करना ज़रूरी है.  

यह भी पढ़ें: Covid-19 India: देश में 15 हज़ार मामलों के साथ धीमी पड़ी संक्रमण की रफ़्तार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *