Covid-19 Rise in India: जानिए कैसे हुआ इस जानलेवा वायरस का देश में उदय और क्या हैं इसके प्रभाव

चीन के वुहान शहर से शुरू हुई Covid-19 महामारी तेज़ी से विभिन्न देशों में फैल गई, जिसके कई मामले अब तक दुनिया भर में सामने आए हैं. वहीं अगर भारत की बात की जाए, तो अब तक भारत में इस जानलेवा वायरस के 3 करोड़ 31 लाख सकारात्मक मामले सामने आए हैं. आपको बता दें, कि 1.34 बिलियन से अधिक की आबादी वाले भारत में, अब तक Covid-19 महामारी से 4 लाख 41 हज़ार लोगों की मृत्यु हो चुकी है. 

भारत में अब फिर से Covid-19 के मामलों में तेज़ी देखी जा रही है. वर्तमान तेज़ी को काबू करने के लिए कई महत्वपूर्ण रणनीतियां आवश्यक होंगी. इनमें Covid-19 प्रसार को नियंत्रित करने की योजना के साथ-साथ एक नए उपचार की नीति का भी सरकार तेज़ी से विकास कर रही है. भारत के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय Covid-19 के प्रकोप के बारे में शुरू से ही जागरूकता फैला रहा है. साथ ही, Covid-19 के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए भी स्वास्थ्य मंत्रालय आवश्यक कार्रवाई कर रहा है.  

भारत में Covid-19 का प्रभाव और उदय 

भारत में SARS-CoV-2 का सबसे पहला सकारात्मक मामला केरल राज्य में 30 जनवरी, 2020 को दर्ज किया गया था. इसके करीब 1 महीने बाद, भारत में Covid-19 के प्रभाव को कम करने के लिए भारत सरकार ने 25 मार्च, 2020 को पूरे देश में 55 दिनों का लॉकडाउन लागू किया था. Covid-19 के प्रकोप से राष्ट्र की अर्थव्यवस्था को भी काफी नुकसान हुआ है. भारत में स्कूल और कॉलेजों को भी बंद कर दिया गया था. जिस कारण छात्रों को ऑनलाइन शिक्षा दी जा रही थी. 

Severe Acute Respiratory Syndrome Coronavirus 2 (SARS-CoV-2), जो Covid-19 रोग का कारण बनता है, पहली बार दिसंबर 2019 में चीन के वुहान शहर में पहचाना गया था. इसके बाद यह चीन के कई प्रांतों में फैल गया. 8 मई, 2020 तक विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने दुनिया भर से 3,759,967 सकारात्मक Covid-19 मामले दर्ज किए थे. इसके अलावा Covid-19 के कारण मरने वालों की संख्या भी दुनिया भर में 259,474 तक पहुंच गई थी. आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि 30 जनवरी, 2020 को WHO ने Covid-19 को अंतर्राष्ट्रीय चिंता मानते हुए सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल घोषित किया था. 

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) ने 8 मई, 2020 को एक प्रेस रिलीज़ जारी किया था. इस विज्ञप्ति के अनुसार, कुल 14,37,788 नमूने, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी पुणे और एक संबंधित परीक्षण प्रयोगशाला को भेजे गए थे. 8 मई, 2020 तक महाराष्ट्र, दिल्ली और गुजरात राज्यों को क्रमशः 17,974, 5,980 और 7,012 मामलों के साथ Covid-19 का हॉटस्पॉट घोषित किया गया. 

भारत में Covid-19 के मामलों में कमी लाने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग को अपनाया गया था. सोशल डिस्टेंसिंग को लागू करने के लिए भारत सरकार ने 22 मार्च, 2020 को ‘जनता कर्फ्यू’ का आदेश दिया. इसके बाद 25 मार्च, 2020 से शुरू होकर 21 दिनों के लिए देश में एक और लॉकडाउन लगाया गया था, जिसे फिर 3 मई, 2020 तक बढ़ा दिया गया था. लेकिन सकारात्मक मामलों की बढ़ती संख्या के कारण लॉकडाउन को तीसरी बार 17 मई, 2020 तक फिर बढ़ा दिया गया. इसके बाद भी Covid-19 के मामलों में कमी दर्ज नहीं की गई. सरकार ने स्थिति को देखते हुए लॉकडाउन को 31 मई 2020 तक दोबारा बढ़ाने का ऐलान किया. 

सरकार ने आदेश दिया की लॉकडाउन को केवल कंटेनमेंट ज़ोन के लिए 30 जून तक बढ़ाया जाएगा. इसके बाद 8 जून, 2020 से चरणबद्ध तरीके से सेवाएं फिर से शुरू की जाएंगी. इसे ‘अनलॉक 1.0’ कहा गया. वहीं प्रधानमंत्री मोदी ने बाद में यह भी स्पष्ट किया कि, देश में तालाबंदी का दौर अब खत्म हो गया और ‘अनलॉक’ की प्रक्रिया शुरु हो चुकी है. 

अनलॉक के दूसरे चरण, अनलॉक 2.0 की घोषणा 1 से 31 जुलाई, 2020 को की गई थी. इसके बाद अगस्त 2020 में अनलॉक 3.0 की घोषणा की गई. इसी तरह, सितंबर 2020 के लिए अनलॉक 4.0 और अक्टूबर 2020 के महीने के लिए अनलॉक 5.0 की घोषणा की गई. नवंबर 2020 महीने के लिए अनलॉक 6.0 की घोषणा की गई और दिसंबर 2020 के महीने के लिए अनलॉक 7.0 की घोषणा की गई थी. 

भारत में तैयारी और निवारक उपाय

Covid-19 संक्रमण दर को कम करने का एक सबसे आसान तरीका यही है कि, वायरस के जोखिम से बचें. भारत के लोगों को वायरस से सबसे ज़्यादा प्रभावित देशों की यात्रा करने से बचना चाहिए. उचित स्वच्छता का अभ्यास करना चाहिए. आवश्यक निवारक उपाय, जैसे मास्क पहनना, नियमित रूप से हाथ धोना और संक्रमित व्यक्तियों के सीधे संपर्क से बचना भी अपनाना चाहिए. Covid-19 संक्रमण दर कम करने के लिए भारत सरकार ने टीकाकरण (कोविडशील्ड और कोवैक्सीन) की सुविधा उपलब्ध करवाई है. भारत में 16 जनवरी, 2021 को Covid-19 टीकाकरण अभिनयान की शुरुआत की गई थी. 8 सितंबर, 2021 तक भारत में पहली और दूसरी खुराक सहित कुल मिलाकर 716 मिलियन से अधिक खुराक दी जा चुकी हैं.

यह भी पढ़ें: Covid-19 Update: नए मामलों में फिर आयी तेज़ी, 70 फीसदी कोरोना संक्रमित सिर्फ केरल से

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *