Jyotiraditya Scindia Aviation Minister: मोदी कैबिनेट में हुए शामिल, प्रधानमंत्री का किया धन्यवाद

नरेंद्र मोदी की सरकार के दूसरे कार्यकाल में बुधवार को, सबसे बड़े फेरबदल को देखा गया है. इस फेरबदल में, 43 नए मंत्रियों को शामिल किया गया है, जबकि 11 पुराने मंत्रियों को अपनी कुर्सी गंवानी पड़ी है. भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने के बाद, Jyotiraditya Scindia को पहली बार. मंत्रिमंडल में शामिल किया गया है. वह अब, मोदी कैबिनेट में नागरिक उड्डयन मंत्री की कुर्सी संभालेंगे. 

नागरिक उड्डयन मंत्री की शपथ लेने के बाद, Jyotiraditya Scindia ने प्रधानमंत्री Narendra Modi का धन्यवाद किया हैं. उन्होंने ट्विटर पर ट्वीट करते हुए प्रधानमंत्री का धन्यवाद किया है. उन्होंने कहा की, “मैं आपको यकीन दिलाता हूं कि, मुझे जो भी जिम्मेदारी मिली है. मैं उसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी सिद्धांतों के नेतृत्व में अपनी पूरी क्षमता के साथ निभाऊंगा”.

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री, Shivraj Singh Chauhan ने Jyotiraditya Scindia को बधाई दी है. उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा की, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में केंद्रीय मंत्रिमंडल के विस्तार से देश. और विभिन्न राज्यों की प्रगति का मार्ग सुगम व तेज होगा. केंद्रीय कैबिनेट मंत्री का पद संभालने पर Jyotiraditya Scindia जी को हार्दिक बधाई.” इसके बाद, सिंधिया के समर्थकों ने भाजपा कार्यालय में जश्न भी मनाया. 

आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि Jyotiraditya Scindia ग्वालियर शाही परिवार के वंशज हैं. वह तीसरी पीढ़ी के भाजपा नेता हैं. उनकी दादी Vijayaraje Scindia, भाजपा की संस्थापक सदस्य में से एक थीं. वहीं उनकी मौसी भी, भाजपा में शामिल हैं.  लेकिन, उनके पिता Madhavrao Scindia ने एक अलग रास्ता अपनाया और कांग्रेस पार्टी के शीर्ष पायदान पर पहुंचे. ज्योतिरादित्य सिंधिया को, अपनी राजनीतिक सूझबूझ और क्रिकेट का प्यार अपने पिता से विरासत में मिला है. 

सिंधिया का, राजनीति में प्रवेश दुखद परिस्थितियों में हुआ था. साल 2001 में, एक विमान दुर्घटना में अपने पिता को खोने के बाद. युवा सिंधिया का राजनीति में प्रवेश हुआ था. उन्होंने साल 2002 से साल 2019 तक गुना-शिवपुरी लोकसभा सीट का प्रतिनिधित्व किया था. इसके बाद, वह साल 2018 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को सत्ता में लाने के लिए महत्वपूर्ण चहेरा बने थे. उन्होंने पूरे राज्य में प्रचार किया था. जिसमें वह, 15 साल पुरानी भाजपा सरकार के लिए चुनौती बनकर खड़े थे. 

यह भी पढ़ें: Ashwini Vaishnaw: नए रेल मंत्री के तौर पर ली शपथ, जानें कैसा है उनका अब तक का करियर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *