Lakhimpur Kheri Violence: हिंसा के विरोध में आज महाराष्ट्र रहेगा बन्द, क्या खुली रहेंगी ज़रूरी सामान की दुकानें?

महाराष्ट्र की गठबंधन सरकार ने उत्तर प्रदेश के Lakhimpur Kheri में चार किसानों की हत्या के विरोध में सोमवार, 11 अक्टूबर को राज्यव्यापी बंद का ऐलान किया है. आपको बता दें, कि Lakhimpur Kheri ज़िला मुख्यालय से करीब 70 किलोमीटर दूर, तिकुनिया में हुई हिंसा में 8 लोगों की मौत हो गई थी, जिनमें 4 किसान शामिल थे. अब इस मामले में केंद्रीय गृह राज्‍यमंत्री, अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा की गिरफ्तारी हो चुकी है.

महाराष्ट्र बंद के दौरान, मुंबई पुलिस किसी भी घटना से बचने लिए, सोमवार को सड़कों पर अपने सुरक्षा कर्मियों की तैनाती बढ़ाएगी. पुलिस अफसरों का कहना है, कि “राज्य रिज़र्व पुलिस बल, होमगार्ड के 500 जवान और स्थानीय सशस्त्र इकाइयों के 400 जवानों को नवरात्रि के दौरान सुरक्षा के लिए अतिरिक्त जनशक्ति के रूप में तैनात किया गया है.” उन्होंने कहा, कि “लेकिन बंद को ध्यान में रखते हुए मुंबई पुलिस किसी भी स्थिति से निपटने के लिए अधिकतम जनशक्ति का उपयोग करेगी. सोमवार को सड़कों पर पुलिसकर्मियों की संख्या बढ़ाई जाएगी.”

छत्रपति शिवाजी मार्केट यार्ड ट्रेडर्स एसोसिएशन ने भी इस बंद का समर्थन किया है. उनका कहना है, कि सोमवार को फल व सब्‍ज़ी के बाज़ार पूरी तरह से बंद रहेंगे. व्‍यापारी संगठन ने सभी व्‍यापारियों से सोमवार को अपनी दुकानें बंद रखने की अपील की है. उन्‍होंने किसानों से भी अपील की है, कि वे अपनी उपज को, सोमवार को शहरों में लेकर ना आएं. हालांकि, इस दौरान ज़रूरी सेवाओं को जारी रखने का फैसला किया गया है.

आपको बता दें, कि मुंबई के डब्बेवालों ने भी बंद का विरोध करने का फैसला किया है. वे किसानों के समर्थन में काली पट्टी लगाएंगे, लेकिन साथ ही इस बंद के विरोध में अपना काम-धंधा करते रहेंगे. मुंबई की लोकल ट्रेन भी इस बंद के दौरान नियमित तरीके से चलती रहेंगी. इस बंद के दौरान, पुणे के रिटेल संघ के अध्यक्ष, सचिन निवंगुणे ने यह ऐलान किया है, कि कोरोना महामारी के कारण व्यापारियों को नुकसान झेलना पड़ा है. ऐसे में वह किसानों का समर्थन करते हुए काली पट्टी लगाएंगे और अपनी दुकानों को खोलेंगे. वहीं नागपुर और औरंगाबाद के व्यापारियों ने भी यह घोषणा की है, कि वह पर्व-त्योहारों के दौरान दुकानें बंद करने का समर्थन नहीं कर सकते. इसलिए नागपुर और औरंगाबाद में भी व्यापारी दुकानें खोलने पर अड़े हुए हैं.

Lakhimpur Kheri में तीन अक्टूबर को हुई हिंसा के मामले में पुलिस ने केंद्रीय मंत्री के बेटे, आशीष मिश्रा को शनिवार की रात गिरफ्तार कर लिया. आशीष पर आरोप है, कि उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री, केशव प्रसाद मौर्य के कार्यक्रम का विरोध कर रहे किसानों को कुचलने वाले वाहनों में वह शामिल थे, जिसमें 4 किसानों की मौत हो गई थी.

यह भी पढ़ें: Lakhimpur Kheri Violence: जांच में हो रहे हैं रहस्यमयी खुलासे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *