Telecom Industry: 1850 में टेलीग्राफ से शुरू हुआ सफर, आज है 5G की राह पर :

Telecom Industry: 1850 में टेलीग्राफ से शुरू हुआ सफर, आज है 5G की राह पर

आज के समय में लोगों पर Telecom Industry का काफी नियंत्रण है. एक समय पर संदेश और बातचीत की परिभाषा रहा दूरसंचार क्षेत्र, आज इंटरनेट के माध्यम से लोगों की दिनचर्या का अहम हिस्सा बन चुका है. लोग अब तकनीकी रूप से इतने जागरूक हैं, कि चुटकियों में सही जानकारी और तथ्य प्रस्तुत कर देते हैं और शायद यही Telecom Industry की सबसे बड़ी जीत है. 

भारत में टेलीग्राफ से शुरू हुआ सफर

भारत में Telecom Industry का जनक, टेलीग्राफ को कहा जाता है, जो आम भाषा में तार भी कहलाता है. इसकी भारत में शुरुआत, वर्ष 1850 में ब्रिटिश शासन के दौरान हुई थी. तब से लेकर अब तक, दूरसंचार क्षेत्र में जो बदलाव आए, वो भारत को विश्वस्तर के देशों में खड़ा करने के लिए काफी हैं. तार से शुरू हुआ Telecom Industry का सफर, आज 5G तक पहुंच चुका है और भविष्य के लिए नई संभावनाएं तलाशने में प्रयासरत है. 

साल-दर-साल Telecom Industry में आए ये बदलाव

वर्षबदलाव
1.1850इस वर्ष टेलीग्राफ की शुरुआत हुई, जो ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के लिए खुला था. वहीं आम जनता के लिए ये सुविधा वर्ष 1854 में खुली. 
2.1880टेलीफ़ोन की शुरुआत के लिए भारत सरकार से बातचीत शुरू हुई. जो वर्ष 1882 तक चली.
3.1901इस वर्ष तारहीन टेलीग्राफ की सेवा का शुभारंभ हुआ. जिसकी लोगों में काफी चर्चा रही.
4.1947भारत के जबलपुर के एक सरकारी कालेज में पहला इलेक्ट्रॉनिक और दूरसंचार इंजिनियरिंग विभाग खुला. 
5.1995इस वर्ष पहला मोबाइल फोन और इंटरनेट की शुरुआत हुई. इससे पहले 1957 में, रेडियो पर आकाशवाणी आया करती थी, जो लोगों के बीच प्रसिद्ध थी. 
6.1997दूरसंचार क्षेत्र के नियम और व्यवस्था बनाए रखने के लिए, TRAI की स्थापना की गई. 
7.2000भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) का भारतीय दूरसंचार क्षेत्र में आगमन हुआ.
8.2002इस वर्ष के बाद, काफी सारी कंपनियों ने भारतीय दूरसंचार में अपना नाम शामिल किया. इनमें Aircel, Uninor, Airtel, Idea, Hutch, Tata Indicom, आदि का नाम शामिल है. 
9.2012-2017इन वर्षों के अंतराल में ज़्यादातर कंपनियों की या तो मान्यता रद्द हो गई या फिर अधिग्रहण हो गया. फिलहाल भारत में 4 मुख्य दूरसंचार के खिलाड़ी मौज़ूद हैं. इनके नाम है Reliance की Jio, Airtel, Vodafone Idea (VI) और BSNL. 
10.2017 – 2021ये दौर दूरसंचार के क्षेत्र में क्रांति का था. जब इंटरनेट और बातचीत के लिए कंपनियों में तकरार शुरू हुई. जनवरी 2021 में आई विश्वस्तरीय रिपोर्ट में बताया गया, कि भारत Telecom Industry के उपयोगकर्ता के आधार पर विश्व का दूसरा सबसे बड़ा देश है. साथ ही, आज 5G नेटवर्क पर सारा ध्यान केंद्रित हैं. 

भारतीय Telecom Industry में इन कंपनियों की है बादशाहत

ऐसे तो भारत में Telecom Industry से संबंधित कंपनियों के नाम का कोई अंत नहीं है. मगर प्रवेश से लेकर अबतक उपभोक्ताओं में जगह बनाए रखने वाली कंपनियों में आज 4 नाम ही प्रमुख हैं. जो कि इस प्रकार हैं –

1. Jio :  Mukesh Ambani के मालिकाना हक वाली Reliance Group की Jio को Telecom Industry का वो आधार माना जाता है, जिसने Telecom Industry का तख्ता ही पलट कर दिया. सस्ते इंटरनेट और काॅल से लेकर गांव तक पहुंचकर कंपनी ने साबित किया कि, भारत में संभावनाओं की कमी नहीं है. Jio आज भारत में इंटरनेट से लेकर मोबाइल फोन तक बना रही है और हर दिन हज़ारों की संख्या में उपभोक्ताओं को कंपनी से जोड़ रही है. 

2. Airtel : Jio के आने से पहले भारतीय Telecom Industry पर Airtel और Idea की बादशाहत थी. मगर Jio के आने से कंपनी को काफी नुकसान हुआ. वहीं कंपनी के उपभोक्ताओं की संख्या में भी गिरावट दर्ज की गई. इस कंपनी का नेतृत्व Sunil Mittal करते हैं.

3. VI : Vodafone और Idea के अधिग्रहण के बाद बनी कंपनी VI, भारत कि Telecom Industry में एक जाना माना नाम है. इस कंपनी में भारतीय बिज़नेस Aditya Birla Group की भी 26% की हिस्सेदारी है. भारत में नेटवर्क और कनेक्टिविटी के मामले में कंपनी महत्वपूर्ण मानी जाती है. 

4. BSNL : सरकारी कंपनियों में शामिल BSNL, भारतीय Telecom Industry में हमेशा से रही है. वहीं आज भी भारत सरकार का कंपनी में 50% का हिस्सा है. हालांकि, कंपनी समय के साथ खुद को ढाल ना पाने की वज़ह से भारतीय उपभोक्ताओं के बाज़ार में काफी कम की हिस्सेदार है. 

उपभोक्ताओं को भा रही कौन सी कंपनियां

वर्ष 2021 की ताज़ा रिपोर्ट पर नज़र डालें, तो भारतीय Telecom Industry में उपभोक्ता और कंपनियों का प्रतिशत कुछ ऐसा है – 

मौज़ूदा आंकड़े, Telecom Regulatory Authority of India (TRAI) के अगस्त 2021 की एक रिपोर्ट से लिए गए हैं. जिनमें भारतीय Telecom Industry में Jio (39.98%), Airtel (29.82%), VI (23.15%) और BSNL (9.77%)  प्रतिशत की हिस्सेदार हैं. 

भविष्य में भारत का दांव

टेलीग्राफ, टेलीफोन और रेडियो का सफर आज तारहीन मोबाइल, इंटरनेट और वाईफाई तक पहुंच चुका है. 2G से शुरू हुआ Telecom Industry का ये रास्ता, अब भविष्य में 5G को लेकर तेज़ गति से आगे बढ़ रहा है. विज्ञान और नागरिकों के इस सफर में एक चीज़, जो हमेशा बनी रही, वो है बदलाव. यही बदलाव वो पहिया है, जो अभी इस सफर को और आगे लेकर जाएगा. 

यह भी पढ़ें: Tax in India: सरकारी आय के महत्वपूर्ण श्रोत की कैसे हुई शुरुआत, पढ़ें पूरी रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *